Monthly Archives: August 2016

दो दिन की ट्रेन यात्रा में दो आत्माएँ

वर्षों की चिरप्रतीक्षित यात्रा शुरू होने वाली थी. सभी तैयारियाँ लग चुकी थीं. ट्रेन के दो दिन, दो दिनों के साथ-साथ नई , अनजान जगह पर परिचित खाद्य पदार्थ मिलने, न मिलने का संकट देखते हुए उसकी भी तैयारियाँ पूर्ण … Continue reading

Posted in यात्रा वृतांत | Leave a comment

तिरंगे को सच्ची सलामी अभी बाकी है

          जब पहली आधी रात को तिरंगा फहराया गया था, तब हवा हमारी थी, पानी हमारा था, जमीं हमारी थी, आसमान हमारा था तब भी जन-जन की आँखों में नमी थी। पहली बार स्वतन्त्र आबो-हवा में अपने प्यारे तिरंगे को … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment

शारीरिक दुराचार के लिए जिम्मेवार है अश्लील चित्रण

सामाजिक विकास के साथ-साथ महिलाओं के साथ छेड़खानी, बलात्कार की घटनाओं में वृद्धि हो रही है. ऑफिस, बाजार, पार्क, सफर या फिर अन्य कोई जगह, महिलायें खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं. महिलाओं के साथ-साथ मासूम बच्चियाँ भी … Continue reading

Posted in Uncategorized | Leave a comment